Zindademocracy

यूपी विधानसभा चुनाव 2022: रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया का बङा एलान, यूपी में अकेले चुनाव लड़ेगा जनसत्ता दल

प्रतापगढ़ | उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में किसी से पार्टी से गठबंधन की कयास को लेकर जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रतापगढ़ के कुंडा के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप उर्फ राजा भैया ने बङा एलान किया। उन्‍होंने साफ किया है कि उनकी पार्टी अकेले अपने दम पर 2022 विधानसभा चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि, जनसत्ता दल के प्रत्याशी के दम पर हम चुनाव लड़ेंगे।

बता दे कि, भाजपा और सपा समेत अन्‍या दलों के साथ गठबंधन को लेकर महीनों से चल रहे कयास को राजा भैया ने सिरे से खारिज कर दिया है. यही नहीं, राजा भैया के बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में सियासत तेज हो गयी है. इसके अलावा मीडिया से बात करते हुए राजा भैया ने कहा कि जिस भी विधानसभा क्षेत्र में अच्छे और मजबूत प्रत्याशी हैं।

सिर्फ 17 सीटों पर जनसत्ता दल ने घोषित किये प्रत्याशी-
जनसत्ता दल प्रत्याशी उतार रही है. अभी तक सिर्फ 17 सीटों पर जनसत्ता दल ने प्रत्याशी घोषित किये हैं. हालांकि अभी कई प्रत्याशियों को लेकर पार्टी में मंथन चल रहा है, जितने अच्छे प्रत्याशी मिलते जा रहे हैं, वहां के पार्टी पदाधिकारियों और जनता से राय लेकर प्रत्याशी घोषित होगा।

कितनी सीटों पर लङेंगे चुनाव अभी सष्ट नहीं-
इसके अलावा राजा भैया ने कितनी सीटों पर चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि अभी पार्टी कितने सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी, यह कह पाना संभव नहीं है. वहीं, जिस दिन आखिरी प्रत्याशी घोषित होगा उस दिन हम सीट की पूरी संख्या बताएंगे. जनसत्ता दल और प्रत्याशी अपने दम पर विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे।

दल-बदल की राजनीति पर पार्टीयों पर साधा निशाना-
राजा भैया ने दल-बदल की राजनीति पर निशाना साधते हुए कहा कि बड़े सौभाग्य से जनता के आशीर्वाद से विधानसभा की सदस्यता मिलती है. भाग्य और प्रबल हो तो सत्ता पक्ष में आते हैं और भाग्य थोड़ा और अच्छा होता है तो मंत्री बनते हैं।

वहीं, मंत्री के नाते प्रदेश की जनता के लिए अधिक से अधिक सेवा करना चाहिए, लेकिन चुनाव के समय बड़ी संख्या में लोग दल-बदल करते हैं और पार्टी बदलने वाले एक लाइन ही बोलते हैं कि पार्टी अपने सिद्धांतों से भटक गई है. मुझको घुटन होने लगी है, अब यहां आकर खुली हवा में सांस ले रहा हूं. साथ ही कहा कि जब जब चुनाव होता है तब तब दल-बदल का दौर चलता है,जिसके विचार जिस पार्टी में मिले वो वहां जा सकता है.

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending