Zindademocracy

सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस में बड़ा अपडेट, CCTV फुटेज में पुलिस को दिखे 7 चहरे सिद्धू की मौत को लेकर गरमाई सियासत के बीच पंजाब पुलिस हत्यारों तक पहुंचने के लिए कार्रवाई कर रही है।

चंडीगढ़ | मंगलवार को मशहूर पंजाबी सिंगर और कांग्रेस के नेता सिद्धू मूसेवाला का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव मूसा में किया जा रहा है। सिद्धू की मौत को लेकर गरमाई सियासत के बीच पंजाब पुलिस हत्यारों तक पहुंचने के लिए कार्रवाई कर रही है। ऐसा माना जा रहा है कि पुलिस के हाँथ अभी तक कई अहम सबूत लगे हैं। अब पुलिस के हाँथ एक CCTV फुटेज लगा है जिसमें 7 संदिग्ध लोगों को एक ढाबे में बैठ कर खाना खाते हुए देखा जा सकता है। इन 7 लोगों में से कुछ की पहचान हो गयी है। अभी तक की जांच में पुलिस के सामने ऐसे कई नाम आए हैं जिनका सम्बन्ध सिद्धू की मौत से हो सकता है।

ढाबे पर खाना खाते दिखे संदिग्ध
पंजाब पुलिस को मिला ये सीसीटीवी फुटेज मनसुख ढाबे का है, जो मनसा जिले में भीखी रोड पर पड़ता है। सिद्धू पर हमले से कुछ घंटे पहले 29 मई की सुबह ये लोग ढाबे में गए थे। सीसीटीवी में सातों लोग ढाबे के अंदर टेबल कुर्सी पर बैठकर खाना खाते नजर आ रहे हैं। पुलिस ने इनमें से दो युवकों की पहचान कर ली है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, इनके नाम मनप्रीत सिंह मन्नू निवासी कुस्सा और जगरूप सिंह रूपा निवासी जौरा बताए जा रहे हैं। कुस्सा और जौरा पंजाब के ही गांव हैं। पुलिस अब इनकी धरपकड़ में जुटी है। बाकी लोगों की पहचान की कोशिश की जा रही है।

पुलिस जांच में सामने आए कई नाम
इसके अलावा, पुलिस की अब तक की जांच में कई नाम सामने आए हैं, जिनके बारे में शक है कि वो किसी न किसी तरह सिद्धू मूसेवाला की हत्या से जुड़े हुए हैं। टॉप खुफिया सूत्रों ने न्यूज 18 को बताया कि जिन लोगों पर पुलिस को शक है, उनमें हिसार निवासी भोला, नारनौद के रहने वाले सतेंदर काला, सोनू काजल व बिट्टू के अलावा अजय गिल, अमित काजला, गोल्डी बरार, लॉरेंस बिश्नोई और एक पंजाबी सिंगर का मैनेजर सचिन और जग्गू भगवानपुरिया शामिल हैं। इनमें ज्यादातर पंजाब और हरियाणा के हैं।

पुलिस के निशाने पर गोल्डी बरार
गोल्डी बरार वैसे तो मुक्तसर का है, लेकिन इन दिनों कनाडा में उसके छिपे होने का शक है। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद गोल्डी ने ही फेसबुक पोस्ट में हत्या की जिम्मेदारी ली थी। उसने कहा था कि विकी मद्दूखेड़ा और गुरलाल बरार की मौत का बदला लेने के लिए उसने और लॉरेंस बिश्नोई ने इस हत्या को अंजाम दिया है। गोल्डी के पिता असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर हुआ करते थे, लेकिन बरार पर एक मर्डर का आरोप लगने के बाद उन्हें जबरन रिटायरमेंट दे दिया गया था।

तिहाड़ में बंद गैंगस्टर्स से पूछताछ जारी
इस बीच, पुलिस ने दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई, काला जठेड़ी और काला राणा से सिद्धू मूसेवाला की हत्या के सिलसिले में पूछताछ की है। पंजाब के पुलिस प्रमुख वीके भवरा ने रविवार को कहा था कि पहली नजर में सिद्धू की हत्या लॉरेंस बिश्नोई और लकी पटियाला गैंगों की आपसी लड़ाई का नतीजा लग रहा है। पुलिस का मानना है कि लॉरेंस बिश्नोई जेल के अंदर से ही बरसों से अपना रैकेट चलाता रहा है। पहले वह राजस्थान की जेल में बंद था, फिर उसे दिल्ली शिफ्ट कर दिया गया। पंजाब ही नहीं राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली में उसके खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, उगाही, लूट, डकैती के तमाम केस दर्ज है।

बिश्नोई ने जताया फ़र्ज़ी एनकाउंटर का अंदेशा
लॉरेंस बिश्नोई ने दिल्ली की अदालत में अर्जी दाखिल करके आशंका जताई थी कि पंजाब पुलिस उसका फर्जी एनकाउंटर कर सकती है। उसके याचिका पर जल्द सुनवाई की गुहार लगाई थी। लेकिन अदालत ने जल्दी सुनवाई से इनकार कर दिया। दिल्ली पुलिस ने पिछले महीने शाहरुख नाम के गैंगस्टर को पकड़ा था। जिसने कथित तौर पर कबूला था कि वो सिद्धू मूसेवाला की हत्या की फिराक में था. 28 साल के शाहरुख पर 2 लाख का इनाम है। हत्या, हत्या के प्रयास और उगाही जैसे कई केस उसके खिलाफ दर्ज हैं।

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending