Zindademocracy

Russia Ukraine conflict : रूसी चैनल में चलते शो के बीच प्रदर्शन, बैनर पर लिखा – ” झूठ बोल रही एंकर “ प्रोडूसर अपना एक प्री-रिकॉर्डेड वीडियो भी जारी किया है, जिसमें उन्होंने Channel One के लिए काम करने और 'क्रेमलिन प्रोपगैंड' फैलाने को लेकर शर्म जाहिर की।

रूस | रूस के सैन्य हमले के विरोध में यूक्रेन में एक प्रोड्यूसर ‘No War’ का साइन लिए रूसी सरकारी मीडिया Channel One के लाइव शो में आ गई। 14 मार्च की शाम की ये घटना है। The guardian की एक रिपोर्ट के अनुसार, Channel One की प्रोड्यूसर Marina Ovsyannikova 14 मार्च को चैनल के लाइव शो में पहुंच गईं और ‘युद्ध खत्म करो’ के नारे लगाने लगीं।

चलते शो के बीच प्रोडूसर जो बैनर लेकर आई उसमे लिखा था – “युद्ध नहीं। युद्ध खत्म करें। इनके प्रोपगैंडा पर यकीन न करें। ये आपसे झूठ बोल रहे है। युद्ध के खिलाफ रूसी।”

घटना के वायरल हुए वीडियो में देखा जा सकता है कि Ovsyannikova एंकर के पीछे साइन बोर्ड लेकर चिल्ला रही हैं और इस दौरान एंकर ने अपना न्यूज पढ़ना जारी रखा।

रिपोर्ट्स के अनुसार, Ovsyannikova ने अपना एक प्री-रिकॉर्डेड वीडियो भी जारी किया है, जिसमें उन्होंने Channel One के लिए काम करने और ‘क्रेमलिन प्रोपगैंड’ फैलाने को लेकर शर्म जाहिर की।

उन्होंने कहा – “अफसोस की बात है कि कई सालों तक मैंने Channel One पर और क्रेमलिन प्रोपगैंडा पर काम किया, मुझे इस समय बहुत शर्म आ रही है. शर्म की बात है कि मैंने टेलीविजन स्क्रीन से झूठ बोलने की अनुमति दी. शर्म की बात है कि मैंने रूसी लोगों के जॉम्बीफिकेशन की अनुमति दी. हम 2014 में चुप थे, जब इसकी शुरुआत हो रही थी. जब क्रेमलिन ने नवलनी को जहर दिया, तो हम विरोध करने के लिए बाहर नहीं गए.”

शो की प्रोडूसर Ovsyannikova ने कहा – “हम बस शांतिपूर्वक इस एंटी-ह्यूमन सरकार को देख रहे हैं. और अब पूरी दुनिया ने हमसे मुंह मोड़ लिया है और अगली दस पीढ़ियां भी इस युद्ध की शर्म से खुद को साफ नहीं कर पाएंगी.”

“यूक्रेन में जो हो रहा है वो अपराध है और रूस हमलावर है. इस आक्रामकता की जिम्मेदारी केवल एक व्यक्ति के कंधों पर है: व्लादिमीर पुतिन.”
प्रोड्यूसर Marina Ovsyannikova

रिपोर्ट्स के अनुसार, Ovsyannikova ने वीडियो में ये भी बताया कि उनके पिता यूक्रेन से हैं और मां रूस से।

पुतिन झुकने को तैयार नहीं
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आदेश में रूस की सेना ने 24 फरवरी को पड़ोसी देश यूक्रेन में हमला किया था। पुतिन इसे ‘सैन्य कार्रवाई’ कह रहे हैं, लेकिन ह्यूमन राइट्स ग्रुप की मानें तो रूस के हमले में सैकड़ों यूक्रेनी लोगों की मौत हो चुकी है और लाखों लोग पड़ोसी मुल्कों में शरणार्थी बनने को मजबूर हो गए हैं।

अमेरिका, ब्रिटेन और यूरोप समेत कई देशों ने रूस को झुकने पर मजबूर करने के लिए आर्थिक प्रतिबंध लगाए हैं, लेकिन पुतिन को झुकने को तैयार नहीं दिख रहे हैं। ऐपल, आईबीएम समेत दुनिया की कई बड़ी कंपनियों ने भी रूस में अपना काम रोक दिया है, जिससे इन कंपनियों के आउटलेट्स और स्टोर्स बंद हो गए हैं।

 

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending