Zindademocracy

8 मई को विशाल शोभायात्रा एवं विप्र समागम, अखिल भारतीय कवि सम्मलेन, भजन संध्या एवं विप्रजनों का सम्मान नगर के विभिन्न क्षेत्रों से प्रारम्भ होकर यह शोभायात्रा परशुराम वाटिका में समाप्त होगी।

कानपूर, उत्तर प्रदेश | भगवान् परशुरामोत्सव के अंतिम दिन, यानी 8 मई २०२२ को विशाल शोभायात्रा निकली जाएगी। नगर के विभिन्न क्षेत्रों से प्रारम्भ होकर यह शोभायात्रा परशुराम वाटिका में समाप्त होगी। तत्पश्चात भगवान् का पूजन, अभिषेक , आरती एवं भोग के उपरान्त विप्र सम्मान तथा राष्ट्रिय कवियों द्वारा कवी सम्मलेन का आयोजन भी होगा।

उक्त जानकारी देते हुए ब्राह्मण समन्वय समिति के अध्यक्ष भूपेश अवस्थी ने बताया कि समन्वय में अनेक ब्राह्मण संगठन सम्बद्ध हैं, जो अलग अलग क्षेत्रों में शोभायात्रा समागम के उपरान्त राष्ट्रिय कवी सम्मलेन भी होगा, जिसमे प्रख्यात कवियत्री गौरी मिश्रा, रामकिशोर तिवारी, हेमंत पांडेय, अजय अंजाम एवं सौरभ तिवारी काव्य पाठ करेंगे। वहाँ विप्र सम्मान होगा समिति के महामंत्री ओम नारायण त्रिपाठी ने बताया कि कार्यक्रम के समापन पर महाप्रसाद के साथ भंडारा भी आयोजित किया गया है। यह देर रात तक चलेगा।

समिति के मुख्य संरक्षक नरेंद्र द्विवेदी ने बताया कि भगवान परशुराम सम्पूर्ण हिन्दू समाज के आराध्य है। वुष्णु के छटे अवतार शास्त्र में पारंगत हैं। भगवान परशुराम जैसा पराक्रमी, बलशाली, वीर इस पृथ्वी पर दूसरा नहीं हुआ।

पत्रकार वार्ता में विभिन्न संगठनों के नरेंद्र द्विवेदी संरक्षक, भूपेश अवस्थी अध्यक्ष, ओम नारायण त्रिपाठी महामंत्री, मनोज पांडेय कोषाध्यक्ष, आशुतोष शुक्ल उपाध्यक्ष, महेश संयुक्त मंत्री, हरी त्रिपाठी प्रचारमंत्री, अभय दुबे संगठन मंत्री, सजेन्द्र अवस्थी, मिथिलेश पांडेय, श्याम नारायण शुक्ल आदि उपस्थित रहे।

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending