Zindademocracy

Covaxin: भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को बहरीन में मिली मंजूरी, आपातकालीन स्थिति में की जाएगी इस्तेमाल

भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को बहरीन में मंजूरी दे दी गई है. बहरीन के नेशनल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी ने कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है. राजधानी मनामा में स्थित भारतीय दूतावास ने इसकी जानकारी दी है. बहरीन को लेकर अब तक 97 देशों में कोवैक्सीन और कोविशील्ड को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी जा चुकी है. इसमें अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी जैसे देश शामिल हैं।

इस तरह अब भारतीयों के लिए अंतरराष्ट्रीय यात्रा सरल हो गई है। खाड़ी देश के नेशनल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी ने एक बयान जारी कर कहा, ‘किंगडम ऑफ बहरीन के नेशनल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी (एनएचआरए) ने आज भारतीय मल्टीनेशनल बायोटेक्नोलॉजी कंपनी, भारत बायोटेक द्वारा तैयार की गई कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है.

’ इसमें कहा गया, ‘कोवैक्सीन को हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा मंजूर किया गया। इस तरह ये बहरीन में 18 साल और इससे ऊपर के लोगों के लिए उपलब्ध होगी. ये एक इनएक्टिवेटेड वैक्सीन है.’ गौरतलब है कि WHO ने हाल ही में वैक्सीन को अपनी मंजूर की गई वैक्सीनों में शामिल किया है।

क्लिनिकल टेस्ट के बाद मिली मंजूरी
बयान में कहा गया, ‘ये फैसला भारत बायोटेक इंडिया द्वारा मुहैया कराए गए डेटा के सावधानीपूर्वक मूल्यांकन के बाद लिया गया है. डाटा का मूल्यांकन एनएचआरए के क्लिनिकल ट्रायल कमिटी और स्वास्थ्य मंत्रालय की टीकाकरण समिति द्वारा किया जाता है.’ इसमें कहा गया, ‘वैक्सीन के क्लिनिकल टेस्ट में 26,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया, इससे पता चला कि दो-खुराक वाली रेजीमेन वैक्सीन कोविड-19 के खिलाफ 77.8 फीसदी कारगर है, और कोविड-19 के गंभीर मामलों के खिलाफ वैक्सीन 93.4 फीसदी तक कारगर है. सुरक्षा डेटा में इसका बेहद ही कम साइड इफेक्ट देखने को मिला है.’

WHO ने दी कोवैक्सीन को मंजूरी
बता दें कि WHO ने तीन नवंबर कोवैक्सीन को ‘आपात उपयोग के लिए सूचीबद्ध’ (ईयूएल) का दर्जा दे दिया. इससे पहले WHO के तकनीकी परामर्शदाता समूह (टीएजी) ने इसकी सिफारिश की थी. डब्ल्यूएचओ ने ट्वीट किया, ‘WHO ने कोवैक्सीन (भारत बायोटेक द्वारा विकसित) वैक्सीन को आपात उपयोग के लिए सूचीबद्ध किया है. इस तरह कोविड-19 की रोकथाम के लिए WHO द्वारा मान्यता प्राप्त वैक्सीन की संख्या में इजाफा हुआ है.’

WHO ने कहा कि, उसके द्वारा बनाया गया टीएजी, जिसमें दुनियाभर के नियामक विशेषज्ञ हैं, पूरी तरह से आश्वस्त है कि कोवैक्सीन कोविड-19 के खिलाफ रक्षा करने संबंधी उसके मानकों पर खरी उतरती है और इस वैक्सीन के लाभ इसके जोखिमों से कहीं अधिक है अत: इसका उपयोग किया जा सकता है.

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending