Zindademocracy

बिहार : बेतिया में BJP के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल के घर पर हमला जिस समय हमला हुआ उस वक्त प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल घर ही मौजूद थे.

बिहार | अग्निपथ योजना के विरोध की आग भाजपा नेताओं के घर तक पहुंच गयी है. बेतिया में पहले उपमुख्यमंत्री रेणु देवी और उसके बाद भाजपा के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल के अस्पताल रोड स्थित आवास पर उन्मादी भीड़ का कहर टूटा. सैकड़ों की संख्या में लाठी डंडे से लैस भीड़ ने प्रदेश अध्यक्ष के आवास पर जमकर पत्थरबाजी की जिसमें घर का शीशा चकनाचूर हो गया. गेट को तोड़ने का प्रयास किया गया जिसमें एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया. जिस समय हमला हुआ उस वक्त प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल घर ही मौजूद थे.

मौके पर पहुंचे एसपी ने किसी तरह भीड़ को खदेड़ा. इसके बाद संजय जायसवाल ने बताया कि उनके घर को उड़ाने की साजिश थी. भीड़ द्वारा उनके घर पर डीजल और पेट्रोल छिड़कर जलाने का प्रयास किया गया. संजय जायसवाल ने स्थानीय प्रशासन की कार्यशैली पर भी सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि जैसी कार्रवाई प्रशासन को करनी चाहिए थी वैसी कार्रवाई प्रशासन ने नहीं की.

डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि मेरे घर पर जो हमला हुआ है उसका सीसीटीवी मौजूद है. घर को आग लगाने का प्रयास किया गया है. डीजल और मोबिल फेका गया है. मेरे घर को उड़ाने की साजिश थी. मेरे घर पर जो हमला हुआ है वे आर्मी के कैंडिडेट तो बिल्कुल नहीं थे. मैंने 100 लोगों की पहचान की है. बगल के घर से भी हमला किया गया है. प्रशासन की कार्रवाई संतोषप्रद नहीं है. इस तरह की घटनाएं बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण है.

हालांकि, संजय जायसवाल ने विरोध कर रहे युवाओं को समझाने का भी प्रयास किया है. उन्होंने कहा कि युवा किसी बहकावे में न आएं क्योंकि अन्य देशों की तरह भारत भी अपनी सैन्य ताकत को मजबूत करना चाहती है; और इसके लिए अपने नागरिकों को ट्रेंड करना चाहती है. आगे उन्होंने कहा कि इस योजना का लाभ युवाओं को मिलेगा जो आने वाले समय मे पता चलेगा.

भाजपा अध्यक्ष ने इसके अलावा भी युवाओं में देश के प्रति कोई युवा काम धंधा करना चाहता है तो 25 लाख के अलावा 25 लाख की योजना 50 लाख मिलेगा. यूक्रेन और रसिया के बीच जैसी घटनाएं हुई हैं तो एक रिजर्व पीढ़ी तैयार करने की कवायद है.

संजय जायसवाल ने कहा कि दुनिया में हर जगह होता है कि देश में एक रिजर्व आर्म्ड फोर्सेज की पीढ़ी तैयार किया जाता है. हमारे सामने इजरायल और ब्रिटेन जैसे कई उदाहरण हैं. इस योजना के तहत 4 साल में ही काम धंधा का अवसर मिलता है. ग्रेजुएशन की डिग्री मिल जाएगी. शॉर्ट सर्विस कमिशन वालों को प्राइवेट कंपनियां भी तरजीह देती हैं.

 

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending