Zindademocracy

यूक्रेन के साथ खड़ा अमेरिका, जानिए जो बाइडेन के सम्बोधन में कही गईं बड़ी बातें ! बाइडेन ने कड़े शब्दों में कहा कि रूस ने तानाशाही से एक आजाद देश को राैंदने की कोशिश की हैं।

नई दिल्ली | रूस-यूक्रेन युद्ध के सातवें दिन अमेरिका के राष्ट्रपति ‘जो बाइडेन ने स्टेट ऑफ द यूनियन’ संबोधन में रूस के यूक्रेन पर हमले की जमकर निंदा की और कहा कि रूस को इसकी कीमत चुकानी ही पड़ेगी। बाइडेन ने कड़े शब्दों में कहा कि रूस ने तानाशाही से एक आजाद देश को राैंदने की कोशिश की हैं।

बाइडेन के संबोधन की 10 बड़ी बातें

जब इस युग का इतिहास लिखा जाएगा तो यूक्रेन पर पुतिन के युद्ध ने रूस को कमजोर और बाकी दुनिया को और मजबूत बना दिया होगा.

हम रूस की प्रौद्योगिकी तक पहुंच को रोक रहे हैं जो इसकी आर्थिक ताकत को खत्म कर देगी और आने वाले वर्षों में इसकी सेना को कमजोर कर देगी.

अमेरिका यूक्रेन के साथ खड़ा है. अमेरिका और हमारे सहयोगी सामूहिक शक्ति के साथ नाटो क्षेत्र के हर इंच की रक्षा करेंगे.

यूक्रेनियन साहस के साथ लड़ रहे हैं. पुतिन को युद्ध के मैदान में लाभ हो सकता है, लेकिन उन्हें लंबे समय तक इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी.

अमेरिकी हवाई क्षेत्र का उपयोग करने से रूसी उड़ानों पर प्रतिबंध.

राष्ट्रपति पुतिन ने एक पूर्व नियोजित युद्ध चुना है जो जीवन और मानव पीड़ा का एक विनाशकारी नुकसान लाएगा.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के यूक्रेन पर आक्रमण के लिए पश्चिम और उसका प्रशासन तैयार था.

अमेरिकी न्याय विभाग रूसी कुलीन वर्गों के अपराधों के लिए एक समर्पित टास्क फोर्स का गठन कर रहा है.

हम अपने यूरोपीय सहयोगियों के साथ आपके नौकाओं, आपके लक्जरी अपार्टमेंट, आपके निजी जेट विमानों को खोजेंगे और जब्त करेंगे.

रूस के तानाशाही रुख ने एक आजाद देश को राैंदने की कोशिश की हैं.

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending