Zindademocracy

चुनाव में नहीं मिला टिकट तो गुलाबी गैंग की कमांडर संपत पाल ने छोड़ दी कांग्रेस पार्टी द्वारा टिकट पाने वाले प्रत्याक्षी तो खुश हैं मगर टिकट न पाने वाले प्रत्याक्षी अपनी नाराज़गी भी बयान कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश | UP विधानसभा चुनाव में सभी पार्टियां अपने-अपने प्रत्याशियों की सूची जारी कर रही हैं। पार्टी द्वारा टिकट पाने वाले प्रत्याक्षी तो खुश हैं मगर टिकट न पाने वाले प्रत्याक्षी अपनी नाराज़गी भी बयान कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के चित्रकूट के ‘गुलाबी गैंग’ की कमांडर संपत पाल ने टिकट न मिलने की वजह से कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है।

‘गुलाबी गैंग’ की कमांडर संपत पाल ने रविवार को कहा कि उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है, क्योंकि पार्टी ने उन्हें उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के लिए टिकट नहीं दिया है।

टिकट न देने के लिए उन्होंने सीधे तौर पर, राज्य के कांग्रेस नेताओं और पर्यवेक्षकों को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि वह दिल्ली में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं को यहां की ‘अंदरूनी राजनीति’ के बारे में बताएंगी।

इस प्रत्याक्षी ने ली सम्पत पाल की जगह
संपत पाल ने 2012 और 2017 के चुनावों में कांग्रेस के टिकट पर, मऊ-मानिकपुर सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा था। 2012 के चुनावों में उन्हें केवल 2,203 वोट मिले थे, वहीं 2017 में जब वह सपा-कांग्रेस की सहयोगी उम्मीदवार थीं, तब उन्हें 40,524 वोट मिले थे। कांग्रेस ने इस बार उनकी जगह रंजना भारतीलाल पांडे को उतारा है।

2014 में भी संपत को नहीं मिला था टिकट
2014 में भी संपत पाल के साथ ऐसा ही हुआ था, गुलाबी गैंग की महिलाओं ने आमसभा की बैठक में, संपत पाल को कमांडर पद से बर्खास्त कर दिया गया था. संपत की बर्खास्तगी का सीधा असर यह हुआ कि कांग्रेस ने भी संपत से किनारा कर लिया था। साथ ही, बांदा सीट से उन्हें टिकट न देकर सदर विधायक विवेक सिंह को टिकट थमा दिया था।

पाल ‘गुलाबी गैंग’ नाम से एक महिला संगठन चलाती हैं। 2014 में बनी माधुरी दीक्षित और जूही चावला की बॉलीवुड फिल्म ‘गुलाब गैंग’ संपत पाल और उनके संगठन से प्रेरित मानी जाती है। संपत पाल टीवी रियलिटी शो ‘बिग बॉस’ सीजन-3 में भी देखी गई थीं।

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Trending